आरटीजीएस/ एनईएफटी - अक्सर पूछे जानेवाले प्रश्न (एफएक्यू)RTGS / NEFT - FAQ  

1. अंतर-बैंक अंतरण क्या है?

अंतर-बैंक अंतरण में धन-प्रेषक के बैंक खाते में से अन्य बैंक की शाखा में मौजूद हिताधिकारी के खाते में इलेक्ट्रोनिक निधि अंतरण किया जाता है। अंतर-बैंक अंतरण की दो प्रणालियां हैं - आरटीजीएस और एनईएफटी। इन दोनों प्रणालियों का संचालन भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किया जाता है...

 

आरटीजीएस - तत्काल सकल निपटान - यह वह प्रणाली है जिसमें निधि अंतरण अनुदेशों का प्रसंस्करण अनुदेश प्राप्त होते ही (तत्काल) किया जाता है। निधि अंतरण अनुदेशों का निपटान भी अनुदेश दर अनुदेश आधार(सकल निपटान) पर एक एक करके होता है। आरटीजीएस भारत में सुरक्षित बैंकिंग चैनलों के माध्यम से उपलब्ध यथासंभव द्रुततम अंतर-बैंक धन अंतरण सुविधा है।

एनईएफटी - राष्ट्रीय इलेक्ट्रोनिक निधि अंतरण - निधि अंतरण की यह प्रणाली एक आस्थगित निवल निपटान के आधार पर परिचालित होती है। आरटीजीएस के सतत, एक एक निपटान के विपरीत निधि अंतरण लेनदेनों का निपटान बैच में किया जाता है। संप्रति, एनईएफटी का परिचालन कार्यदिवसों में सुबह 8 बजे से शाम को 7 बजे तक एवं शनिवार को सुबह 8 बजे से अपराह्न 1 बजे तक, घंटों के बैच में किया जाता है।

उपरोक्त सुविधाएं भारतीय स्टेट बैंक के दोनों खुदरा एवं कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग प्रयोक्ताओं के लिए उपलब्ध है (बशर्ते उन्होंने लेनदेन अधिकार का प्राप्त किया हो)।

 

2. खुदरा इंटरनेट बैंकिंग के अधीन आरटीजीएस / एनईएफटी लेनदेनों के लिएन्यूनतम/अधिकतम राशि क्या है?

खुदरा इंटरनेट बैंकिंग के अधीन आरटीजीएस / एनईएफटी लेनदेनों के लिए न्यूनतम/अधिकतम राशि
प्रकार न्यूनतम अधिकतम
आरटीजीएस रु.2 लाख रु.10 लाख
एनईएफटी न्यूनतम कुछ नहीं रु.10 लाख

3. कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के अधीन आरटीजीएस / एनईएफटी लेनदेनों के लिए न्यूनतम/अधिकतम राशि क्या है?

कारपोरेट इंटरनेट बैंकिंग के अधीन आरटीजीएस / एनईएफटी लेनदेनों के लिए न्यूनतम/अधिकतम राशि
प्रकार न्यूनतम अधिकतम
आरटीजीएस रु. 2 लाख व्यापार के लिए रु.50 लाख और विस्तार के लिए रु.2000 करोड़
एनईएफटी न्यूनतम कुछ नहीं व्यापार के लिए रु.50 लाख और विस्तार के लिए रु.2000 करोड़

4. आरटीजीएस भुगतान हिताधिकारी के खाते में कब जमा होता है?

सामान्य स्थिति में धन-प्रेषक बैंक द्वारा निधि अंतरण करते ही हिताधिकारी की बैंक शाखा को तत्काल ही निधि प्राप्त हो जाती है। निधि अंतरण संदेश प्राप्ति के 2 घंटे के भीतर हिताधिकारी के बैंक को हिताधिकारी के खाते में जमा करनी होती है।

5. एनईएफटी भुगतान हिताधिकारी के खाते में कब जमा होता है?

जैसे ऊपर बताया गया, एनईएफटी का परिचालन घंटों के आधार पर बैच में किया जाता है। संप्रति कार्यदिवसों में सुबह 8बजे से शाम 7 बजे तक 12 निपटानों और शनिवार को सुबह 8 बजे से अपराह्न 1 बजे तक 6 निपटानों की व्यवस्था है। इसलिए, हिताधिकारी के खाते में कार्यदिवसों में सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे के भीतर (शनिवार को सुबह 8 बजे से 12 बजे के भीतर) किए गए लेनदेनों के लिए राशि उसी दिन जमा होने की आशा की जा सकती है। कार्यदिवसों में शाम 6 से 7 बजे के बैच में और शनिवार को अपराह्न 1 बजे निपटाए गए लेनदेनों के लिए उसी दिन या फिर अगले कार्य दिवस में राशि जमा की जाएगी।

 

6. यदि आरटीजीएस लेनदेन हिताधिकारी के खाते में जमा नहीं होता है, तो क्या धन-प्रेषक को धन वापस मिलता है?

हाँ, यदि किसी कारणवश हिताधिकारी का बैंक हिताधिकारी के खाते में राशि जमा करने में असमर्थ है, तो, हिताधिकारी का बैंक 2 घंटे के भीतर धन-प्रेषण बैंक को धन वापस करेगा। धन-प्रेषण बैंक द्वारा राशि प्राप्त होने के पश्चात, यह संबंधित शाखा द्वारा धन-प्रेषक के खाते में जमा कर दिया जाता है।

7. यदि एक एनईएफटी लेनदेन हिताधिकारी के खाते में जमा नहीं होता है, तो क्या धन-प्रेषक को धन वापस मिलता है?

हाँ, यदि किसी कारणवश हिताधिकारी का बैंक हिताधिकारी के खाते में राशि जमा करने में असमर्थ है, तो, हिताधिकारी का बैंक लेनदेन प्रक्रिया बैच के 2 घंटे पूरे होने के भीतर धन-प्रेषण बैंक को धन वापस करेगा। धन-प्रेषण बैंक द्वारा राशि प्राप्त होने के पश्चात, संबंधित शाखा द्वारा धन-प्रेषक के खाते में धन जमा कर दिया जाता है।

8. दिन/सप्ताह के किस समय के दौरान आरटीजीएस और एनईएफटी सेवाएँ उपलब्ध हैं?

आरटीजीएस लेनदेनों को निम्नलिखित समय-सारणी के अनुसार आरबीआई को भेजा जाता है:
दिन आरंभ समय समाप्त समय
सोमवार से शुक्रवार 9:00 बजे 16:00 बजे
शनिवार 9:00 बजे 13:00 बजे
 
एनईएफटी लेनदेनों को निम्नलिखित समय-सारणी के अनुसार आरबीआई को भेजा जाता है:
दिन आरंभ समय समाप्त समय
सोमवार से शुक्रवार 7:00 बजे 18:30 बजे
शनिवार 7:00 बजे 12:30 बजे

निम्नलिखित समयों के आधार पर बैच में आरबीआई एनईएफटी लेनदेनों का निपटान किया जाता है।:

  • कार्यदिवसों में 12 निपटान – 08.00, 09.00, 10.00, 11.00, 12.00, 13.00, 14.00, 15.00, 16.00, 17.00, 18.00, और 19.00 बजे।
  • शनिवार को 6 निपटान - 08.00, 09.00, 10.00, 11.00, 12.00 और 13.00 बजे।

कृपया नोट करें कि उपरोक्त सभी समय सिर्फ भारतीय मानक समय (आईएसटी) पर आधारित हैं।

 

9. मोबाइल ऑनलाइन एसबीआई का प्रयोग करते समय किन सुरक्षा उपायों को अपनाना चाहिए?

एक प्रभावी आरटीजीएस / एनईएफटी धन-प्रेषण के लिए धन-प्रेषक को निम्नलिखित सूचना देनी होगी :...

 
  • प्रेषण की जाने वाली राशि।
  • धन-प्रेषक का खाता संख्या जिसके नामे डाला जाएगा।
  • हिताधिकारी बैंक का नाम।
  • हिताधिकारी का नाम।
  • हिताधिकारी का खाता संख्या।
  • प्रेषक से प्राप्त सूचना, यदि कोई हो।
  • गंतव्य बैंक शाखा का आईएफएससी कोड।
 

10. हिताधिकारी शाखा के आईएफएससी कोड का पता कैसे लगाया जा सकता है?

आईएफएससी कोड पता न होने की स्थिति में, ऑनलाइन एसबीआई में, धन-प्रेषक के पास गंतव्य बैंक शाखा स्थान चयन करने का विकल्प होता है। यदि बैंक, राज्य और शाखा के लिए सही तथ्य का चयन किया जाता है, तो आईएफएससी कोड स्वतः अपडेट हो जाता है।

11. क्या भारत में सभी बैंक शाखाएँ आरटीजीएस और एनईएफटी सेवाएँ प्रदान करती हैं?

नहीं, देशभर में कुछ विशेष शाखाओं में ही आरटीजीएस और एनईएफटी सेवाएँ सक्रिय की गई हैं। इस प्रकार की आरटीजीएस / एनईएफटी सक्रिय शाखाओं के सूची आरबीआई की वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है, आरटीजीएस के लिए http://rbidocs.rbi.org.in/rdocs/RTGS/DOCs/RTGEB1110.xls और एनईएफटी के लिए http://www.rbi.org.in/scripts/neft.aspx

12. मैं किस प्रकार इस सेवा का उपयोग कर सकता हूँ?

  • लेनदेन अधिकार के साथ अपने खाते के लिए इंटरनेट बैंकिंग सुविधा प्राप्त करें। इस के लिए अपने एसबीआई शाखा से संपर्क करें...
 
  • इंटरनेट बैंकिंग आईडी और पासवर्ड का उपयोग कराते हुए www.onlinesbi.sbi पर लॉगइन करें।
  • प्रोफाइल टैब पर जाएँ और मैनेज बैनिफिशियरी(Manage Beneficiary) पर क्लिक करें।
  • दिए गए विकल्पों में से Inter Bank Payee का चयन करें।
  • 'Add' विकल्प का चयन करें और संबंधित क्षेत्र में हिताधिकारी का नाम, खाता संख्या, पता और अंतर-बैंक अंतरण सीमा भरें।
  • हिताधिकारी बैंक शाखा का आईएफएससी कोड निम्नलिखित किसी एक विकल्प से भरें
    • आईएफएससी कोड विकल्प का चयन करके टेक्स्ट बॉक्स में 11 संख्या वाला आईएफएससी कोड भरें।
    • लोकेशन(Location) विकल्प का चयन करके ड्रॉप मैन्यू में से हिताधिकारी, राज्य और शाखा का चयन करें।
  • 'accept Terms of Service (Terms & Conditions)' बटन एवं तत्पश्चात 'confirm'' पर क्लिक करें।
  • एक अतिरिक्त सुरक्षा उपाय के तहत एक उच्च सुरक्षा पासवर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाता है। हिताधिकारी को प्राधिकृत करने के लिए इस पासवर्ड को भरें।
  • जोड़े गए हिताधिकारी को ज्यादा से ज्यादा 16 घंटों के भीतर सक्रिय किया जाएगा। एक बार सक्रिय हो जाने के पश्चात आप हिताधिकारी को निधि अंतरण कर सकते हैं।
  • आरटीजीएस / एनईएफटी के माध्यम से अंतर-बैंक आदाता को निधि-प्रेषण करने के लिए, 'Payments/Transfers' टैब में 'Inter Bank Transfer' का चयन करें
  • लेनदेन प्रकार- आरटीजीएस / एनईएफटी का चयन करें।
  • जोड़े गए हिताधिकारियों के खातों की सूची प्रदर्शित है।
  • राशि भरें तथा जमा करने के लिए सूची से हिताधिकारी का चयन करें।
  • 'accept Terms of Service (Terms & Conditions)' तथा confirm पर क्लिक करें।
 

13. आरटीजीएस / एनईएफटी लेनदेनों के लिए सेवा प्रभार क्या है?

  • The Revision of online transaction charges w.e.f., 01st July 2019 as advised by the RBI....
 
Transaction Limits
Funds Transfers Minimum Maximum Transaction Charges
NEFT Rs.1 Rs.10 Lakhs Nil
RTGS Rs.2 Lakhs Rs.10 Lakhs Nil
 

14. एनईएफटी लेनदेन के लिए राशि हिताधिकारी के खाते में जमा न होने अथवा जमा देरी से होने की स्थिति में मैं किससे संपर्क करूँ?

कृपया अपने बैंक/शाखा अथवा गंतव्य बैंक/शाखा अथवा बैंक के ग्राहक सुविधा सेवा केंद्र से संपर्क करें।