सुरक्षित ऑनलाइन बैंकिंग के लिए महत्वपूर्ण सुझाव  

  • अपने ब्राउज़र के एड्रेस बार में यूआरएल टाइप करके ही बैंक वेबसाइट तक पहुंचे।
  • ऑनलाइन बैंकिंग प्रदान करनेवाले मोबाइल एप्लिकेशन स्टोर (गूगल प्लेस्टोर, एप्पल एप स्टोर, ब्लाकबेरी एप वर्ल्ड, ओवि स्टोर, विंडोज मार्केटप्लेस आदि) से कोई दूर्भावनापूर्ण एप्लिकेशन डाउनलोड करने से सावधान रहें। डाउनलोड करने से पहले कृपया अपने बैंक से संपर्क करके, उनकी वास्तविकता की जाँच करें।
  • साइट पर पहुँचने के लिए किसी ई-मेल संदेश में दिए गए लिंक पर क्लिक न करें।
  • आपकी व्यक्तिगत जानकारी, पासवर्ड या वन टाइम एसएमएस (उच्च सुरक्षा)पासवर्ड प्राप्त करने के लिए एसबीआई या इसका कोई भी प्रतिनिधि कभी भी आपको न ही ई-मेल/एसएमएस भेजता है या फोन करता है। इस प्रकार का ई-मेल/एसएमएस या फोन कॉल इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आपके अकाउंट तक पहुँच कर धोखे से नकदी आहरण का प्रयास है। कभी भी इस प्रकार के ई-मेल/एसएमएस या फोन कॉल का उत्तर न दें। यदि आप ऐसा कोई ई-मेल/एसएमएस या फोन कॉल प्राप्त करते हैं तो तुरंत पर रिपोर्ट करें। कृपया तत्काल अपना यूजर एक्सेस लॉक कर दें, यदि आपने अनजाने में अपनी जानकारी प्रदान कर दी है। लॉक करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
  • व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने या बैंक साइट में अकाउंट ब्यौरा अद्यतन करने के लिए पुरस्कार देने का वादा करनेवाले ई-मेल/एसएमएस/फोन कॉल के प्रलोभन में न पड़ें।
  • निम्नलिखित बातें आपकी इंटरनेट सुरक्षा को बेहतर बनाएँगी
    • निम्नलिखित बातें आपकी इंटरनेट सुरक्षा को बेहतर बनाएँगी
    • ब्राउज़र का नवीनतम वर्जन (आईई 7.0 और आगे, मोजिल्ला फायरफॉक्स 3.1 और आगे, सफारी 3.5 और आगे, गूगल क्रोम आदि)
    • फायरवाल सक्रिय करें
    • प्रयुक्त एंटीवायरस सिग्नेचर
  • सिस्टम वाइरस/ट्रोजन से मुक्त है यह सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से एंटीवायरस से अपना कंप्यूटर स्कैन करें।
  • आवधिक अंतराल में अपने इंटरनेट बैंकिंग पासवर्ड को बदलें।
  • हमेशा पोस्ट लॉगइन पृष्ठ पर पिछले लॉगइन दिनांक और समय की जाँच करें।
  • साइबर कैफ़े या साझा पीसी से अपने इंटरनेट बैंकिंग अकाउंट का उपयोग न करें।
  • लॉगइन करने के पश्चात, आपको यूजरनेम और लॉगइन पासवर्ड देने के लिए नहीं कहा जाएगा। इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते समय, आपको क्रेडिट या डेबिट कार्ड का ब्यौरा देने के लिए भी नहीं पूछा जाएगा। यदि आप कोई मेसेज (जैसे पॉप-अप के माध्यम से) प्राप्त करते हैं जिसमें इस प्रकार की जानकारी मांगी गई हो, वह पृष्ठ चाहे कितना भी वास्तविक प्रतीत क्यूँ न हो, कृपया कोई सूचना प्रदान न करें। इस प्रकार के पॉप-अप्स ज़्यादातर मालवेयर के परिणाम होते हैं जो कंप्यूटर को प्रभावित करते हैं। कृपया अपने डिवाइस को इस प्रभाव से बचाने के लिए तत्काल कदम उठाएँ।
अब ऑनलाइन एसबीआई ईवी-एसएसएल प्रमाणित है

एक्स्टेंडेड वेलीडेसन एसएसएल क्या है?
स्पष्ट रूप से एक वेबसाइट की संस्थागत पहचान को पहचानने के लिए एक्स्टेंडेड वेलीडेसन एसएसएल प्रमाणपत्र उच्च-सुरक्षा वेब ब्राउज़र जानकारी प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, यदि आप एसएसएल प्रमाणपत्र जो एक्स्टेंडेड वेलीडेसन मानक है, से सुरक्षित एक वेबसाइट पर जाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग करते हैं, तो आईई7 यूआरएल एड्रेस बार हरे रंग में परिवर्तित हो जाएगी। हरे रंग के बार के बाद प्रमाणपत्र में सूचित संस्थान के नाम और प्रमाणपत्र प्राधिकरण (उदाहरण के लिए, Verisign) के बीच एक डिसप्ले दिखाई देगा। फायरफॉक्स 3 भी एक्स्टेंडेड वेलीडेसन एसएसएल का समर्थन करता है। अन्य ब्राउज़र्स द्वारा आनेवाले संस्करणों में एक्स्टेंडेड वेलीडेसन विजिबिलिटी प्रदान करना अपेक्षित है। पुराने ब्राउज़र्स मौजूदा एसएसएल प्रमाणपत्रों में मौजूद सुरक्षा प्रतीक के साथ एक्स्टेंडेड वेलीडेसन एसएसएल प्रमाणपत्र डिसप्ले करेंगे।